रिमझिम जैसी

तुम मेरे जीवन के मरुथल
में सावन की रिमझिम जैसी
आई हो लेकर रतनारे
नैनों में कुछ बातें ऐसी!

जीने का मतलब था खोया
तुमने ही आ अंकुर बोया
अब हँसने का मौसम आया
रोता था तब जी भर रोया
हर इक बात मेरी सरगम है
जब तुम हो इक सुमधुर लय-सी!

मिलने को आतुर मन मेरा
नाम तुम्हारे साँझ-सवेरा
निर्मम दुनिया के जंगल में
तुम ही मेरे एक बसेरा
छूट गया हर एक विशेषण
तुम ही मेरा कुल परिचय-सी।

Leave a Reply