ग़ज़ल (तोहफा)

सजाए मोत का तोहफा हमने पा लिया जिनसे
ना जाने क्यों बो अब हमसे कफ़न उधर दिलाने की बात करते है

हुए दुनिया से बेगाने हम जिनके एक इशारे पर
ना जाने क्यों बो अब हमसे ज़माने की बात करते है

दर्दे दिल मिला उनसे बो हमको प्यारा ही लगता
जख्मो पर बो हमसे अब मरहम लगाने की बात करते है

हमेशा साथ चलने की दिलासा हमको दी जिसने
बीते कल को हमसे बो अब चुराने की बात करते है

नजरे जब मिली उनसे तो चर्चा हो गयी अपनी
न जाने क्यों बो अब हमसे प्यार छुपाने की बात करते है

ग़ज़ल :
मदन मोहन सक्सेना

Leave a Reply