ग़ज़ल(चर्चा )

लोग कत्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होती है
हम नजरें भी मिलाते हैं तो चर्चा हो जाती है.

दिल पर क्या गुज़रती है जब बे दूर होते है
पाते पास उनको है तो रौनक आ जाती है ..

आकर के ख्यालों में बो नीदें भी चुराते हैं
रहते दूर जब हमसे तो हर पल याद आती है ..

हमको प्यार है उनसे और करते प्यार बो हमको
ये बात रहती दिल में है ,ये कही नहीं जाती है ..

ग़ज़ल:
मदन मोहन सक्सेना

Leave a Reply