कुछ लफ़्ज़ों को महफ़ूज़ रखा

کچھ لفظوں کو محفوظ رکھا
تم یاد آے تو غزل که دی

कुछ लफ़्ज़ों को महफ़ूज़ रखा
तुम याद आये तो ग़ज़ल कह दी

kuch lafzo’n ko mahfooz rakha

tum yaad aaye to ghazal keh di

 

– Sanjeev Arya

 

Leave a Reply