वर्तमान और मन की व्यथा / शिवदीन राम जोशी

कपट कंकाल काल झपट-झपट सपट लूटे,

                                      बोल रहे मानव झूट झूट के गुलाम यूँ  |
छल बल छल छिद्रन को  काम कहाँ भारत में,
                                       गारत में मिले मूढ़ भारत बदनाम यूँ  |
आफत कौन टारत  दुष्ट मारत बंदूक बम,
                                      ख्यारत है दीनन को हड्डी के जाम यूँ |
कहता शिवदीन यहाँ न्याय ना रही रै अब,
                                    पापी अन्यायी गजब कूरन के काम यूँ |
—————————————————————- —————
सेलटेक्स इनकम टेक्स जन्म टेक्स मरण टेक्स,
                                टेक्सन को सुमार नहीं असो क्यूँ हो गयो |
स्वतन्त्र अब परतंत्र भये कोलाहल भारत में,
                                   कौन दुष्ट पाप बीज पापन को बो गयो |
दुखन को बाढ़ और कुटिलन को गाढ़ भयो,
                             असत्य चहुं फ़ैल रह्यो सत्य सुख खोगयो |
बुरे कूर माचे याकी धूर  उड़े पाछे-पाछे,
                               जकल्यो रे लूँड़ो-गुंड़ो थारो भाग्य सोगयो |

Leave a Reply