उजाले तो हमने कहीं देखे नहीं….

जागती आँखों से ख्वाब देखा ,
हमने फ़लक पे माहताब देखा ,

उजाले तो हमने कहीं देखे नहीं ,
अन्धेरा यहाँ पे बेहिसाब देखा !!

Leave a Reply