तुम चाहो

तुम चाहो, मत प्रीत जताना
तुम चाहो, आगोश न देना
तुम बिन यदि मैं भटक गया तो
मुझको कोई दोष न देना।

दुनिया भर की रीत निभाओ
मुझसे बंधकर क्या पाओगी
सच पूछो विश्वास नहीं कि
मेरा दर्द बंटा पाओगी
मैं तो कब का छोड़ चुका हूं
लेकर नाम तेरा संसार
मेरे साथ है जीता-मरता
इक तेरा मुट्ठी भर प्यार
मुझे न दुनियादारी भायी
मुझको तुम ये होश न देना।

मैं तो अब तक चलता आया
तेरी सुधि की बांह गहे
पथिक कोई मिल जाये राह में
साथ चल पड़े कौन कहे
संभव है कि बिसरा दूं मैं
तुझ पर लिखे हुए सब गीत
और तेरा विश्वास तोड़ दूं
भूले से मेरे मनमीत
तुम्हें भुलाकर भी मैं जी लूं
मुझको ये संतोष न देना।

Leave a Reply