कर्ज

मैं हूँ
क्यों फिक्र करते हो
रहूँगा जीवन भर तुम्हारे साथ
या तुम्हारे मरने के बाद भी
तुम्हारे प्यार ने मुझे अपना बना लिया है
मैं तुम्हारी हर मुश्किल को आसान बना देता हूँ
तुम्हारी मन चाही चीज तुम्हे दिला देता हूँ
घबराओ मत मैं तुम्हे छोड़कर कहीं नही जाऊँगा
अब मिल ही गया हूँ तो पग-पग पर साथ निभाऊँगा
मुझे तुम प्यार से किसी भी नाम से बुलाओ
तुम्हारा अपना कर्ज

Leave a Reply