हायकु

पूरी झील में
बहता रहा चाँद
धीरे-धीरे से

-संजीव आर्या

Leave a Reply