आस

आस मेरी बस यही
की ख्वाहिशें ना हों
डूब कर यादों में
समंदर की गहरईयों में
खोजाऊँ कहीं तनहाईयोंमें
आस मेरी बस यही

छिप जाऊँ कहीं
ना नजर आऊँ
पूछूँ ना किसी से
ना किसी को बताऊँ
दूर बहुत दूर
आस मेरी बस यही