क्षणिकायें – पश्चिमीकरण और राजनीति

पश्चिमीकरण

पश्चिमीकरण से कुछ्

हो रहा हो या न हो रहा हो,

पर पूरब की माताएं ‘ममी’

और पिता ”डेड”अवश्‍य

हो रहे है।

****

स्‍वागत

राजनीति में हर उस

शख्‍स का स्‍वागत है,

थूकना फिर चाटना

    जिसकी सहज आदत है।।

****

One Response

  1. Deepak Khewle 15/10/2012

Leave a Reply