मुझसे मज़बूत कोई दिवार लेके आओ….

खंजर लेके आओ तलवार लेके आओ ,
दो चार लेके आओ हज़ार लेके आओ ,

चीरना है अगर इस फौलाद का सीना ,
मुझसे मज़बूत कोई दिवार लेके आओ ,

अपनी क़ीमत ये है के अनमोल हैं हम ,
हमें खरीद सके वो बाज़ार लेके आओ !!

Leave a Reply