ये सियासत तो बराए नाम है

ग़ज़ल
ये सियासत तो बराए नाम है
शायरों को शायरी से काम है

हम किसी से दुश्मनी करते नहीं
दोस्ती तो प्यार का पैग़ाम है

मेरा घर खुशिओं से है फूला फला
मेरे रब का ये बड़ा इनआम है

उसके बिन मेरा नही कोई निशाँ
जिंदगी मेरी उसी के नाम है

दोस्ती उससे मुनासिब है नहीं
शहर की गलिओं में जो बदनाम है

बज़्म में शेरों की बारिश हो रही
खूबसूरत ये महकती शाम है

तुम मेरे सांसो में तुम धड़कन में हो
ज़िन्दगी मेरी तुम्हारे नाम है

– SALIMRAZA REWA 9981728122

Leave a Reply