आम सभा

  (एक)

श श् श् श्…
सच बोलना मना है!
सरकारें  नशे में हैं
खलल की सज़ा
जेल की सलाखें
या फिर
सजाये मौत
विकल्प आपका ।
    (दो)
नेता जी की आम-सभा
कृपया यहाँ
सवाल न पूछें
सिर्फ
उनकी सुनें
कुछ पूछने की गलती
न करें
नेता जी सत्ता के नशे में हैं
सवाल पूछना निषेध है ।

2 Comments

  1. Sunil Gupta 'Shwet 10/10/2012
    • नादिर अहमद nadir 12/10/2012

Leave a Reply