वो हाथ पकड़ कर चलता है….

चराग़ उम्मीदों का जलता है ,
जब शाम फ़लक से ढलता है ,

जुदाई का ख़याल होगा भी कैसे ,
वो हाथ पकड़ कर चलता है !!

Leave a Reply