उतरा है इक इक करके दिल में इस तरह

उतरा है इक इक करके दिल में इस तरह

उसके ज़ेहन में सीढियाँ हों बेशुमार

One Response

  1. Madan Saxena 05/10/2012

Leave a Reply