ऐसा हो…!!!

मान-अभिमान से परे
रूठने-मनाने के सिलसिले-सा
कुछ तो भावुक आकर्षण हो !

किनारे पर रेत से घर बनाता
और अगले पल उसे तोड़-छोड़
आगे बढ़ता-सा
भोला-भाला जीवन दर्शन हो!

नमी सुखाती हुई
रूखी हवा के विरुद्ध
नयनो से बहता निर्झर हो !

परिस्थितियों की दुहाई न देकर
अन्तःस्थिति की बात हो
शाश्वत संघर्ष
आत्मशक्ति पर ही निर्भर हो !

भीतर बाहर
एक से…
कोई दुराव-छिपाव नहीं
व्यवहारगत सच्चाइयाँ
मन प्राण का दर्पण हो!

सच के लिए
लड़ाई में
निजी स्वार्थों के हाथों
कभी न आत्मसमर्पण हो !

Leave a Reply