सीख लिया है उसने । (गीत)

सीख लिया है उसने । (गीत)

नफ़रत निभाने का इल्म, सीख लिया है उसने ।
हमारे आँसूओं का साग़र, चख लिया है उसने ।

(इल्म= विद्या; साग़र= पैमाना)

अंतरा-१.

इस जिगर का लहू शायद, कम पड़ा होगा, तभी तो..!
इन्तक़ाम की आग को ही, पी लिया है उसने..!
नफ़रत निभाने का इल्म, सीख लिया है उसने ।

अंतरा-२.

दूर तक उसकी ख़ुशबू, अब भी फैलती होगी, मगर..!
उसे मरकज़ में दम तोड़ना, सीखा दिया है उसने..!
नफ़रत निभाने का इल्म, सीख लिया है उसने ।

(मरकज़= बीचों-बीच)

अंतरा-३.

नफ़रति मज़हब से उसे, ऐसी मुहब्बत हुई कि..!
मुहब्बत में रोज़ा -ए- नफ्स, रख लिया है उसने ।
नफ़रत निभाने का इल्म, सीख लिया है उसने ।

(नफ़रति मज़हब = नफ़रत का धरम; रोज़ा-ए-नफ्स= मन के तीन व्रत= कम खाना,कम सोना और कम बोलना )

अंतरा-४.

रूखे – रूखे से सरकार ? अच्छा नहीं लगता हमें..!
मगर, चुपके से प्यार करना, सीख लिया है हमने..!
नफ़रत निभाने का इल्म, सीख लिया है उसने ।

मार्कण्ड दवे । दिनांकः २६-०९-२०१२.

Leave a Reply