संभल जाओ अब ज़माने वाले….

संभल जाओ अब ज़माने वाले ,
आ गए तलवार उठाने वाले ,

तारीख गवाह है देखो तुम भी ,
मिट गए इस्लाम को मिटाने वाले ,

तेरा मकान जल जायेगा एक दिन ,
मेरे घर को आग लगाने वाले ,

अपनी सूरत भी देखा करो कभी ,
आईना हमको दिखाने वाले ,

खुदा जरूर लेगा हिसाब तुझसे ,
बच्चे को ज़िंदा जलाने वाले ,

फना हो जायेगा वजूद तेरा भी ,
सदा मजलूम को सताने वाले ,

क्या बतलाएं मेरे हबीब तुमको ,
ये दिन लौट कर नहीं आने वाले ,

निजाम-ए-खुदा है ये रुकता नहीं ,
मर ही जाते हैं मर जाने वाले ,

मुर्दा हो गया है यहाँ दिल सबका ,
कुछ भी नहीं अब ये बताने वाले ,

रहना पडेगा अंधेरों में तुम्हे भी ,
मेरे चराग को बुझाने वाले !!

3 Comments

  1. नादिर अहमद nadir 22/09/2012
    • shadab shadab azimabadi 23/09/2012
  2. basantnema 23/11/2012

Leave a Reply