खुशबु तेरी

भीनी भीनी सी खुशबु तेरी,

महका महका सा एहसास है… |

एक अरसा हुआ तुझको देखे हुए…

पर तू हर लम्हा मेरे पास है…. ||

– गौरव संगतानी

Leave a Reply