वो पलकों पे ख्वाब कैसे रखता….

वो सवाल का जवाब कैसे रखता ,
वो प्यार का हिसाब कैसे रखता ,

जहां में उजाला है उसके रंग से ,
वो चेहरे पे नकाब कैसे रखता ,

हकीकत होते हैं अफसाने उसके ,
वो पलकों पे ख्वाब कैसे रखता ,

फूल सा चेहरा हो जिसके पास ,
वो हाथों में गुलाब कैसे रखता ,

जिसे दौलत-ए-हुस्न मिले “शादाब” ,
वो आफताब-ओ-महताब कैसे रखता !!

Leave a Reply