मुद्दतों बाद मौक़ा है आज….

उम्मीद भी है अरमान भी है ,
एहद भी है मेरा एलान भी है ,

मुद्दतों बाद मौक़ा है आज ,
बारिश भी है तूफ़ान भी है ,

याद तो कर वो गुज़रे लम्हें ,
ज़मीं भी है आसमान भी है ,

चाहता है तो आज़मा कभी ,
अज्म पे मुझे गुमान भी है ,

बारहा न पूछ रोने का सबब ,
जानता भी है अंजान भी है !!

Leave a Reply