एक बार जो मिल जाए खुदा हमको……

बंदीश-ए-जिंदगी से क्या मिला हमको ,
खुद भी तन्हा हो गए करके तन्हा उनको !!

तुम्हीं को चाहा तुम्हीं को मांगेंगे हमेशा ,
एक बार जो मिल जाए खुदा हमको ,

लहरों के सहारे समन्दर से दूर होने चले थे ,
मगर खींच ही लाई मेरी तरफ सबा उनको ,

वो उदास न हों कभी जिंदगी के सफर में ,
रहें खुश हमेशा देता हूँ यही दुआ उनको !!

Leave a Reply