ऐसी बददुआ दे मुझे……..

जख्म देने की हर वो अदा दे मुझे ,
जो किसी को न मिली वो सजा दे मुझे ,

तेरी चाहत का असर के तू याद आता है ,
तुझे भूल जाऊं ऐसी बददुआ दे मुझे ,

आहट पे हर किसी के चौंकता हूँ मैं ,
जो तेरी खुशबु लाये वो सबा दे मुझे ,

ए अल्लाह तेरी ही बड़ाई करता रहूँ मैं ,
जो तेरी ही सना कहे ऐसी जबां दे मुझे ,

Leave a Reply