मेरे लफ़्ज़ों की गहराई न देख….

आईने में अपनी परछाई न देख ,
ज़माने की जलवा नुमाई न देख ,

मज़मून के साहील पे ठहर जा ,
मेरे लफ़्ज़ों की गहराई न देख !!

Leave a Reply