पत्थर कहाँ से लाऊं दिल लगाने के लिए……..

कलेजा बड़ा है मेरा गम खाने के लिए ,
मगर हौसला चाहीए मुस्कुराने के लिए ,

मोम है शायद इसलीए पिघल जाता है ,
पत्थर कहाँ से लाऊं दिल लगाने के लिए !!

Leave a Reply