कल तक तो उम्मीद-ए-विसाल उसको भी था……..

बाद-ए-वस्ल, हिज्र का ख्याल उसको भी था ,
बिछड़ने का मुझसे तो मलाल उसको भी था ,

आज वो ना उम्मीदी की बात क्यूँ करता है ,
कल तक तो उम्मीद-ए-विसाल उसको भी था !!

Leave a Reply