आज sms नहीं, तुम्हे एक ख़त लिखूँ ,…..

सोचा आज sms नहीं,  तुम्हे एक ख़त लिखूँ ,

आज का love नहीं,  वही पुरानी उलफ़त लिखूँ ,
 दूँ ढ़ेर सारी दुआएँ और,  माँ दें तुम्हे भरकत लिखूँ ,
यहाँ सब कुशल मंगल है, वहाँ है क्या हरकत लिखूँ ,
जब कौआ छत पर बोले, होय तुम्हारे आने की आहट लिखूँ ,
याद बहोत आती है तुम्हारी, जल्द आने की चाहत लिखूँ ,
जब डाकिया ख़त नहीं लाता है,  होती है बुरी हालत लिखूँ ,
ख़त का जवाब जल्दी देना, रहेगा इन्तज़ार सच -सच लिखूँ ,
                                                                                  kajal sky….

Leave a Reply