फिर खुदा ने दी आवाज

फिर खुदा ने दी आवाज
अल्लाह ने पुकारा
शिव का डमरु डोला
विष्णु ने किया शंखनाद
डोल गया ब्रहमांड
हर-हर महादेव का टंकारा
बोलो-बोलो क्या तुम्हे है
भारत देश से प्यार
मैं भूखा गरीब
कैसे करूं देश से प्यार
कपड़ा हो तन पर और पेट मे रोटी
तो ही कर सकता हूँ इजहार
लाचारी बेचारी और उस पर
हावी है भ्रष्टाचार
ना करना चाहूँ
तो भी गलत काम करने को
हो जाता हूँ तैयार
कागज की सच्चाई
हकीकत को दबा देती है
यही मजबूरी हमें खून के आँसू रूला देती है
ऐसे मे कैसे करूँ देश से प्यार

Leave a Reply