क्यूँ याद तुम्हारी आये ?

कभी -कभी तुम याद आयें ,

तो कोई बात ही न थी,

ये बात दिल को मैं समझाउं ,
 तो दिल मानता ही नहीं..
बादल छायें तो, तुम याद आये…
बारिश आये तो , तुम याद आये…
मैं रोई तो , तुम याद आये…
ना सोई तो, तुम याद आये…
ख़त देखूं तो, तुम याद आये…
कुछ लिखूं तो, तुम याद आये…
हर लम्हा ,हर घडी बस तुम याद आये….
याद आये तो, बेशुमार याद आये….
दिल कहेता है हमे ,
रोज़ याद करें तुम्हे,
क्यूँ याद तुम्हारी आये ?
 उफ़ , ये दिल जानता नहीं…
                                                kajal sky….

2 Comments

  1. nak 12/09/2012

Leave a Reply