दिल परेशां ही सही

दिल परेशां ही सही आस जगाये राखिये

अपने बच्चों में संस्कार बनाये राखिये

 

माना कि भाग-दौड़ है जिंदगी में बहुत

मेहमानों से घर अपना सजाये राखिये

 

अजब इम्तेहान लेती है जिंदगी हर लम्हा

दौर मुश्किल है बहुत खुद को बचाये राखिये

 

सफर  लंबा  हो  या  कि  हो  छोटा

हाय-हैलो तो सबसे बनाये राखिये

 

कौन आयेगा तेरे काम कब्र में नादिर

अच्छे कामों का सदका बनाये राखिये

Leave a Reply