नई सुबह

खिल गई पंखुड़ियाँ

धूप फिर निकल गई

ढ़ल गई थी जो रात में

सुबह मे बदल गई

ओस की बूँद सी

हर जगह बिखर गई

जो चली ये पवन

एक उमंग भर गई

सुर की संगीत की

तान फिर छिड़ गई

गीत जब गुनगुनाया

जिंदगी बदल गई

 

Leave a Reply