गांव गरीब और गोबर

जिसके  पास  जमीन  का ,

छोटा  भी  न  टुकड़ा ,

दुसरे  के  जमीन  पे ,

बसा है  जिसका  झोपड़ा l

मिट्टी  के  दो  चार  वर्तन ,

लुडुके  पड़े  से ,

आती  दुर्गन्ध  मानो ,

कचरे  सड़े  से l

जमी  है  बिछोना ,

औ  ओदना  गगन  है l

कटि  परिधान  केवल ,

अन्यथा  नगन  है l

केवल  सताती  उसे ,

भूख  की  अगन  है l

हे  विकास  वादियो ,

जरा  रुक  कर  निहारो तो ,

गाँव  का  गरीब  भैया ,

फिर  भी  मगन  है l

पुस्त  दर  पुश्तो  से ,

करता  बनिहारी  है l

पत्नी ,पुत्र ,पुत्री  सभी ,

उसकी  अनुहारी  है l

परिश्रम  ही  चेरी  उसकी ,

फिर  भी  भिखारी  है l

पुरुष  सिंह  उपैति  लक्ष्मी ,

यह  आदिकाल  की  बात  है l

“सिंह ” पुरुष  उपैति  लक्ष्मी ,

आज  चरितार्थ  है l

गरीब  का  गोबर  से,

गोबर  का  गरीब  से ,

अनौखा  यह  नाता  है l

दोनों  में  तीनो  अक्षर ,

बराबर  ही आता  है l

दोनों  ही  जल  कर ,

देते  प्रकाश  है l

उन्ही  के  प्रकाश  पर ,

निर्भर  विकास  है l

दोनों  ही  दूसरो  का ,

चूल्हा  जलाते  है l

पर अपने  चूल्हे

जला  नहीं  पाते  है l

सबका  विकास ,

कर  देता  गरीब  है l

दोष  न  पराये  का ,

कहता  नसीब  है

मान्यता  पुरानी  है ,

भोजन  ही  भाषा  की  जननी  है l 

सात्विक  भोजन  जह ,

सत्य  का  परिचायक  है ,

राजसी  भोजन  वही ,

रजोगुण  उन्नायक  है l 

तामसी  प्रबृति  लोग ,

तामसी  भोजन  के  ,

नित्य -प्रति  आदी  है l 

बोलते  तमस  से ,

कारण  बर्बादी  है l 

पर ,

गरीब  बेचारा ,

खता ,सबका  अवाशिस्ट  है l 

इसलिए  शिष्ट  है l 

गलत हो  या  सही ,

कहता  नहीं “नहीं “,

जी  हुजुर ,अच्छा  सरकार ,

हे  अन्नदाता ,हे  माई -बाप l 

वाणी  से  झरती  जैसे ,

रस  की  फुहार l 

यही  है  उस  गरीब  का ,

सच्चा  ब्यवहार l 

कष्टों  को अपने  सीने  में  समेटे l 

सोचता  कभी _कभी ,

औंधे  मुह  लेटे l 

गोबर  बेचारा तो ,

हमसे  भाग्यशाली  है l 

घूरे  के  भी  दिन  बहुरे ,

पर  अपनी  पतझर  तो ,

सबसे  निराली  है l 

गौरी -गणेश  बन ,

गोबर  पुजवाता  है l 

इसी  बहाने , इसी  बहाने ,

दधि ,दूध ,शहद  आदि ,

मजे  से  खाता  है l 

पर  अपनी  किश्मत  तो देखो  विधाता l 

भोजन  तो  दूर ,

कोई  डोट  भी  भैया ,

प्रेम  से  न  खिलाता  है l 

क्या  प्रजातंत्र  में  ,

ऐसा  भी  होता  है l 

सारा  जीवन  नजरो  में ,

सावन  ही  सोता  है l 

हे  प्रगति  वादियों ,

तुम्ही  बताओ l 

बहुत  सताया  तुने ,

अब  न  सताओ l 

कब  मेरे  जीवन  का ,

योवन खिलेगा l 

बाती  भरी दिये  को ,

तेल  कब  मिलेगा l l 

           

          कामना 

विकास  के  पथ  पर  हो  अग्रसर ,

                  औ  भ्रस्टाचार  का  नाम  न  हो l 

दोषी  को  दंड  बराबर  हो ,

                    निर्दोषों  का  अपमान  न  हो l 

समूल  नष्ट  हो  भ्रष्टाचार ,

                     यही  अपना  अभियान  रहे l 

सम्पूर्ण  विश्व  में  भारत  का ,

                      आन ,वान  औ  शान  रहे l l 



One Response

  1. Prabhakar jaiswal 01/08/2016

Leave a Reply