रात में गाँव

झींगुरों की लोरियाँ

सुला गई थीं गाँव को,
झोंपड़े हिंडोलों-सी झुला रही हैं
धीमे-धीमे
उजली कपासी धूम-डोरियाँ।

Leave a Reply