ललन की बधाई है / शिवदीन राम जोशी

लता पता वृक्षन पे लहर लहर झूम रहे,

                                 हरा सघन वृन्दावन बेल अमर छाई है |
नन्दलाल जनम लियो अष्टमी अँधेरी रैन,
                                 नंदजी यशोदा ख़ुशी खुशियाँ हरषाई है |
अखिल लोक लोकन में बाज रहे बाजा आज,
                         शिवदीन देख घर-घर में ललन की बधाई है |
मोर पंख वारे की कृष्ण प्राण प्यारे की,
                                  जग के उजियारे की हमें याद आई है |

Leave a Reply