ऐसी भी होती एक आत्म-व्यथा

ऐसी भी होती एक आत्म-व्यथा

उन्मुक्त,आनन्दित, उच्छ्वास सह अभिमान
पुत्र-जन्म घोषित-अघोषित परिणाम- सन्मान
अम्बर प्रसारित आशाओं का नव अभ्युथान
दिग्भ्रमित विहंगम सा कलोल्लित गुंजन-तान

सुकोमल, शीतल- नन्हे करों का स्पर्श सुजान
वक्त-दर-वक्त बढ़ते कदमो का गतिमय अभियान
पुरातन अवहेलित,परिलक्षित परिवर्तन महान
समय ग्रन्थि पर रुके क्षीण रथ का कंहा है स्थान
निरुपाय-असहाय पित्रीत्व का बिधि-बिधान
आशाओं के दीप जलाये यातनाओं के मशान
जब निज संतति, संताप के कारन दृश्यमान
स्तब्ध, शीतल धमनी, निस्पंद ह्रदय लहू-लुहान
अश्रु उद्भाषित-सजल, रक्तिम लोचन
निस्तेज,जर्जरित,अशांत ताम्र वदन
उद्वेलित,अभिमानी, निष्टुर आत्म-रुदन
निश्चुप, निर्वाक, स्तिमित गति स्पन्दन
अगन तन-मन में अपरिमेय तड़पन
निर्जीव,निश्चल लोचन, पीड़ामय मंथन
आकांक्षित सूत मुख सादर पिता संबोधन
चाहे मन प्रेम उदगार किसी क्षण- प्रतिक्षण

;-सजन कुमार मुरारका

Leave a Reply