शायद यह ही है कविता

शायद यह ही है कविता

मेरे अंतकरण कोई सूक्ष्म अनुभूति
या नये सुख की उपस्थिति
या अनजाना दर्द की पीड़ा
लगा जैसे
मंद-मंद हवा का कोई झोंका
या खिलता गुलाब जैसे महका
या चिलमिलाती दोपहर का टुकड़ा
प्रवेश कर गया
मेरे गहरे निविड़ अंत तक
सोच के कोने से कोने तक
चुप-चाप फैला देता उजियारा
लगे मन में
ठंडी-ठंडी, कोमल-कोमल शिहरण
बच्चे की किलकारियाँ का गुंजन
तप्ते रेगिस्थान की बालुओं की जलन
और मेरे अन्दर
कुछ उभर आता
शायद यह ही है कविता

सजन कुमार मुरारका

Leave a Reply