गीत कोई नया

मन मेरे गीत कोई नया गुनगुना दो।
स्वर सारे सरगम के सुर सजा दो
छंद मेरे उमढ पढ़ो, गीत प्यारा सा बना दो
मन मेरे गीत कोई नया गुनगुना दो।
लय के मधुबन में रास रचा दो
ताल नई छेढ़ो, मयूरी सा नाच नचा दो
मन मेरे गीत कोई नया गुनगुना दो।
पायल की झंकार सी तान सुना दो
मुरली की सुरीली सी आवाज ला दो
मन मेरे गीत कोई नया गुनगुना दो।

Leave a Reply