मेरे मरने पर आंसू न बहाना

मेरे मरने पर आंसू न बहाना
वफाये भूल जाना तुम
आपने हाथों में मेहंदी सजाना
वफाये भूल जाना तुम
गिला शिकवा हो जो मुझसे
मेरी खाक से कह देना
गलती मेरी    मेरे दिलबर
माफ मुझको तुम कर देना
कभी यादो में मुझे मत लाना
वफाये भूल जाना तुम
कुछ  न  दिया  तुमको
गम के शिवा दिलबर
हँस भी नहीं सकते थे
हम तुम कभी खुल कर
मुझे नजरो से अपनी गिराना
वफाये भूल जाना तुम
लोकेश उपाध्याय

Leave a Reply