तुम्हारी नजर झुके तो शाम हो जाये

तुम्हारी नजर झुके   तो शाम हो जाये
मयखाने में भीड़  जाम पे जाम हो जाये

तुम चाहो तो कुछ भी कर दो
अगर पानी छु दो तो शराब हो जाये

तुम्हारी नजर तीर तलवार से भी बढ़कर है
अगर चाहो तो शहर में कत्ले आम हो जाये

अपने चाहने वालो की दीवानगी तो देखो
उनकी हर ख़ुशी तुम्हारे नाम हो जाये

‘लोकेश’   दुआ  करता  है  रब  से
खुदा से भी ऊपर तेरा मुकाम हो जाये
लोकेश उपाध्याय

Leave a Reply