हम शर्मिंदा हैं

मै भी तुझसे तू भी मुझसे,कुछ बात से हम शर्मिंदा हैं

न तू भूला न मै भूला, प्यार तो अब भी जिंदा है

 

 न कुछ तेरा सब-कुछ मेरा उसूल बनाकर रखा है

लूट मची है ऐसे-जैसे, पुश्तैनी ये धंधा है

 

 विज्ञापन में है नारी जिसका उसमें शोषण है

 ख़ुश है अपनी बेशर्मी पे, गंदा है पर धंधा है

 

अपनी इस तरक्की पे खुश हैं हम-सब बहुत मगर

चूसा कितना खून है, गला कितनों का रेंदा है

 

बाँट रहे हैं नफ़रतें लेकर ख़ुदा का नाम

मुश्किल भरा ये दौर है, कौन खुदा का बंदा है

Leave a Reply