दान की बकरी

प्रस्तावना

एक  -सुनने  आये है l

दुसरा – बताने आये है l

सभी -हम पंचतन्त्र  की  सुन्दर  एक  कहानी  लाये  है l 

एक -विष्णु शर्मा की जुबानी  हम  सुनाने आये  है l 

दुसरा -हम  तीन धूर्तो  की कथा आज  बताने  आये  है l   

सभी – हम पंचतन्त्र  की  सुन्दर  एक  कहानी  लाये  है l 

एक – इस पावन उत्सव को सफल बनाने आये है l 

दुसरा – हम आप सज्जनों के मन को बहलाने आये है l 

सभी – हम पंचतन्त्र  की  सुन्दर  एक  कहानी  लाये  है l 

नेपथ्य

एक  समय  की बात है , सुनिये  लगा  के ध्यान  l

एक  विप्र  को  दान मे ,बकरी  दिया यजमान l

बकरी  को विप्र लिए  कंधे उठाई l

घर  को प्रस्थान  किये फुला न  समाई l

बार  बार  पंडित  जी ,बकरी  निहारे l

अंको  में भरि  भरि, देत  पुचकारे l l 

पथ  में  तीन  धूर्तो  ने  देखा ,मोटी  बकरी  वहु  न्यारी  है  l

यह  दान  की  बकरी  है  यारो ,पंडित  को  जान  से  प्यारी  है l

पंडित  को  मुर्ख  बनायेगे

हमबकरी को  अपनाएगे

तीनो  के मन  को  भा  गई l

बकरी  मन  में  समां  गई l

योजना  बना कर  तीनो  ने , कुछ  कुछदुरी  पर  खड़े  हुए    l

एक  ने ब्राहमण से  बात  कही , अपने  हाथो  को  जोड़े  हुए l

 

पहला धूर्त – हे  महात्मा ,

 आप  धर्मवान  है l

अच्छे  एवं  बुरे का  आप  को  ज्ञान  है l

यह  तो  अत्यंत  ही  विचित्र  बात  है l

कुत्ते  को  कंधे  पर  आप  उठाये .

कुत्ता  तो  पंडितजी  अपवित्र  जात  है l

पंडित – क्या  बकते  हो ,बकरी  को  कुत्ता कहते  हो l

पहला  धूर्त -मत  हो  नाराज , मेरे  महाराज l

मुझे  जो  दिखाई  दिया , वही  तो  बतावा l

आप  जो भी  जाने , भले  ही , कुत्ते  कों  बकरी  माने

                       नेपथ्य  से

शंका  के  बीज  तो  बो  ही दिया . पंडित  के  पावन  तन  मन  में l

इक  बार  निहारे  बकरी  को ,फिर  आगे  बढ़े  अपने धुन  में  l l

कुछ  दूर  बढ़े  ही थे  आगे , आ  गया  दूसरा  धूर्त  पास l

घूर  घूर  के  पंडित  को  देखा , फिर हुआ  अचानक  यू  उदास l

दूसरा  धूर्त –  हे , धर्मावतार ,

                     कितनी  शर्म  एवं  लज्जा  की  बात  है l

                      आप  जैसे  ज्ञानी , मरे  हुए  बछरे  को ,

                       कंधे  पर  डाले , शान  से  जl त  है  l

                     क्या  आपकी  वुधि  हो गई  है  भ्रष्ट l

                     क्या  आपका  ज्ञान  हो  गया  है  नष्ट l

                     पंडित  और  मरा  हुआ  वछरा  उठाये  l

                     किस  शास्त्र  में  लिखा  है , हमे  तो  बताये l

पंडित – हे  महामूर्ख ,

             मुझ  जैसे  ज्ञानी  को  मुर्ख  बनाते  हो l

              दान  में मिली  बकरी  को  मरा  हुआ  वछरा  बताते  हो l

दूसरा  धूर्त – नाराज  मत  होए  मेरे  महाराज l

                   आपके  लिए  भैंस  ही  अक्ल  से  बड़ी  है l

                    आप  जिन्दा  या  मरा  हुआ  वछारा  उठाये ,

                    मुझे  क्या  पड़ी   है l

                    मैंने  जो  देखा  वही  तो  बताया  l

                     आपको  मेरी  बात  रास  न  आया l

                                  नेपथ्य  से

शंका  का  बीज  अंकुरित  हुआ , अब  चिंता  लगी  सताने l

अब  बार  बार  उस  बकरी  को  पंडितजी  लगे  निहारने l l

विश्वास  ओ शंका  दोनों  का , पंडित  मन  में  अति  युध्य  हुआ l

विजई  विशवास  हुआ  पल  भर , और  पंडित  पथ  निरुद्ध  हुआ l l

पल  भर के  चांदनी  को  अब  तो , अँधेरी  रात  बनाने को  l

आ  पंहुचा  तीसरा  धूर्त  पास ,पंडित विश्वास  हिलाने  को  l l

 

तिसरा  धूर्त – कितनी  अशोभनीय  लज्जा  की  बात  है ,

                     पाप  एवं  पुण्य  का , अच्छे -बुरे  कर्म  का ,

                      धर्मं -अधर्म  का , जो  उपदेश  देता  है ,

                     कंधे  पर  अपने  एक  गधे  को  दोता  है l

                     उतरिये , उतारिये ,उतारिये  महराज l

                    इससे  पहले  कि  देख  ले  कोई  आज l

                     इस  अपवित्र  गधे  से  पिछा  छुड़ाये l

                    ख़ुशी -ख़ुशी  आप ने  घर  को  जाइये l

                                       

                                      नेपथ्य  से

अब  रहा  तनिक  संदेह  नहीं , पंडित  मन  को  विश्वास हुआ  l

यह  बकरी  नहीं  और  कुछ  है , ऐसा  मन  को  आभास  हुआ l l

पंडित  ( मन  में  )-


                          क्या  है  हैरानी ,

            कोई  कहता  कुत्ता ,कोई  कहता  गधा l

            तो  कोई  कहता  यह  तो  है  मरा हुआ  प्रानी l

            बकरी  या  प्रेत  है , या  है  पिशाचिनी l

      पल  पल  यह  अपने  रूप  को  बदले l

            दान  की  बकरी  यह  जान  ही  न  लेले l l

                                     नेपथ्य  से

बकरी  को  फेक  भगे  पंडित , अब  धूर्तो  की तो  बन  आयी l

जल्दी  से  उठा  लिये  बकरी ,औ  शनदार  दावत  खाई l 

उपसंहार

एक -बताने  आये  है

दूसरा – संदेशा  लाये  है

सभी – बहाका वे   में  कभी  न  आना , सिखाने  आये  है l

एक – बहकाए में आके  विप्र  ने  अपनी  बकरी  गवाई l

दूसरा – बहकाए  में आकर कैकयी  निज  सिंदूर  मिटाई l

सभी- बहकाये  में कभी  न  आना  बताने  आये  है l

एक – बहकावे  ने  अपने  देश  को  कैसा  दर्द  दिया  है l

दुसरा -होकर  गुमराह  हमी  ने , जन्नत  कों  नर्क  किया है l

सभी – बहकावे  में  कभी  न   आना  बताने  आये  है l

 

वीरवर

प्रस्तावना

जननी  जन्मभूमि  है  अपनी  जननी  को  प्रणाम  है l

जननी  के  पावन  चरणों  में  अर्पित  तन ,धन ,धाम  है l l

जों  भी  जग  में  जनम  लिया  है , उसको  एक  दिन  मरना  है l

देश  प्रेम  हित  प्राण  लुटाये ,वही  तो  देश  के  ललना  है l

देश  के  ऐसे  लालो  को , कोटि  कोटि  प्रणाम  है l

जननी  के  पवन  चरणों —————

प्रथम  अंक

द्वारपाल – जय  हो ,जय  हो , जय  हो , नरेश  की l

शौर्य , पराक्रम  की ,

गौरव  औ  महिमा  की ,

यश  ओर  बल  की ,

सम्पति  अचल  की ,

वुढ़ी  और  ज्ञान  की ,

बीरता  महान  की ,

जय  हो , जय  हो , जय  हो ,सरवेश  की ,

नृपति  नरेश  की ,

जय  हो , जय  हो

 

राजा – क्या  है  द्वारपाल l

द्वारपाल –   हें  पृथ्वीपाल ,

एक  तेजाश्वी  तरुण ,

हृस्ट ,पुष्ट ,गौरवर्ण ,

सिंह  कंध ,अतुलित ब ल ,

दमके  है  कर्ण  कुंडल ,

काटी  पे  कृपाण  जिसके ,

हाथो  में  कडा  है l

मिलने  की  इच्छा  से  द्वार  पे  खड़ा  है l

राजा – जावो ,

आदर  के  साथ  दरबार  में  लावो l

अपनी  तो  परम्परा  है ,

वीरो  का  सम्मान l

द्वारपाल -शिरोधार्य  आपकी ,

आज्ञा  श्रीमान l

वीरवर – कराता  हू  प्रणाम ,

महाराज  आपको l

राजा – ईशवर  बढाए  तरुण ,

तेरे  प्राताप  को l

राजा – नाम

वीरवर -वीरवर

रजा- परिवार

वीरवर -एक  पुत्र ,एक  पत्नी  सरकार l

राजा -काम

वीरवर -जो  कोई  न  कर  सके  वह  करने  की  चाह l

राजा – वेतन

वीरवर -पांच  सौ  स्वर्ण  मुद्राए  प्रति  माह l

राजा -इतना  वेतन , जबकि  छोटा  परिवार l

वीरवर – वशुधेव  कुटुम्क्म  ही  अपना  विचार l

राजा – एक  द्वार  रक्षक  की  जगह  थी  खाली l

 

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply