दूर्वांचल

पार्श्व गिरी का नम्र, चीड़ों में

डगर चढ़ती उमंगों-सी।
बिछी पैरों में नदी ज्यों दर्द की रेखा।
विहग-शिशु मौन नीड़ों में।
मैंने आँख भर देखा।
दिया मन को दिलासा– पुन: आऊंगा।
(भले ही बरस दिन– अनगिन युगों के बाद !)
क्षितिज ने पलक-सी खोली,
तमक कर दामिनी बोली–
‘अरे यायावर, रहेगा याद?’

Leave a Reply