जीवन-छाया

पुल पर झुका खड़ा मैं देख रहा हूँ,

अपनी परछाहीं
सोते के निर्मल जल पर–
तल-पर, भीतर,
नीचे पथरीले-रेतीले थल पर :
अरे, उसे ये पल-पल
भेद-भेद जाती है
कितनी उज्ज्वल
रंगारंग मछलियाँ।

Leave a Reply