पतझड़

जब वो नए पत्तों से भर देता है

पूरे पेड़ को ,
तभी वो आकर
सारे पत्तों को नोच डालता है
मानो
उसे ठूँठ की जिंदगी ही पसंद हो शायद….

Leave a Reply