आज़ादी के पचास वर्ष

पुरुष -सुन  रे  सजनी  आज़ादी  के  बीते  वर्ष  पचास l

चारो  तरफ  बिखरी  है  खुशिया , लेकर  नूतन  हास l l

बीत  गई  पावस  की  राका , अब  आओ  मधुमास l

निर्धानता  हो  गई  अपाहिज ,लक्ष्मी  करे  निवास l

स्त्री –  माना  बीत  गए  मेरे  प्रियतम , आज़ादी  के  वर्ष  पचास l

पर  मुझको  तो  नजर  न  आये ,कोई  परिवर्तन  खास l

वही  है  चूल्हा  चौका  अपना , उन्ही  चरणों  की  दास l l

अपनी  तो  जैसे  थी  पावस , वैसी  ही  मधुमास l

पुरुष -कूप  माण्डुक  की  करती  बाते , देखो  आंखे  खोल l

नर-नारी  का  अन्तेर  मिट  गया ,करे  पुरुष  से   होड़ l

कोई  ऐसा  क्षेत्र  नहीं ,जो  नारी  पहुच  परे  हों  l

पहुच  गई  कल्पना  वहा ,जह मानव  पग  न  धरे  हो l

स्त्री –    माना  आर्थिक  प्रगति  हुई  है ,औ  उधोग  बदे  है l

कांच  की  चूड़ी  के  बदले , अब  सोने  के  कड़े  है l

पर  बदली  न  सोंच  तुम्हारी , वही  भाव  सड़े  है l

पुरुष –  कल   तक  तू  थी  बंद  महल में ,आज  आज़ादी  पाई  हो l

यह  तो  हमारी  कृपा  है रानी , हम  से  गौरव  पाई  हो l

स्त्री –    सलाह , मशविरा , परामर्श , तू  माने  नही  हमारी  हो l

नारी  को  अछूत  समझते ,मानो  कोई  वीमारी  हो l

पुरुष –  किस  समाज   औ  किस  कुटुम्ब  में , नारी  का  स्थान  नहीं l

नारी  का  अपमन  हुआ  तो , राष्ट्र  का  सम्मान  नहीं l

स्त्री -पुरुष – हम  दोनों  जीवन  रथ  के ,दो  पहिये  स्वस्र्ह्या  सुघर  है l

निज  देश  सदा  सुरभित , शोभित ,आज़ादी  अजर ,अमर  है l

समाप्त

Leave a Reply