फाइल के पन्नो में

देख  दशा  सड़क  की ,

बायीं  आंख  फड़की ,

पहुँचा  नगरपालिका  भवन ,

कांप  रहा  था  तन , वदन ,

फिर  भी  बोले ,शायद  ,

नगरपालिका  के  महापौर  आप  है l

अमुक  रोड  की  दशा ,

ख़राब  है l

कृपया  ,उसकी  मरम्मत  करवा  दीजिये l

कंकड़  नहीं  तो  मिट्टी  ही  दलवा  दीजिये ,

सुन  के  कोम्प्लैन  मन  हो  गया  खट्टा ,

कौन  कहता  है  उल्लू  का  पट्ठा l

सड़क  ख़राब  हो  या  अच्छी ,

पक्की  हो  या  कच्ची ,

आपको  दरकार l

प्रेस  वाला  हू  सरकर l

ह़ा ,ह़ा  तो  आप  है  अखबार  वाले l

ना  समझ  बिना  विचार  वाले l

पिछले  ही  महीने ,

एक  कालेज  का  किया  उदघाटन ,

दुसरे  का  तैयार  किया  , दिया ,

लम्बा -चौड़ा  भाषण l

पर  इन  अखबार  वालो  न ,

गैरत  ढाने   वालो  ने ,

मेरा  नम  न   छापा l

 

 

Leave a Reply