तेरी यांदे

मयखाने में साकी जैसी
आँगन में तुलसी सी
गीता की वाणी-सी
बरगद की छाया-सी
सावन की बारिश जैसी
शीतल हवा पुरवाई-सी
बगिया की अमराई-सी।
गंगा की लहर-सी
बसन्त की सुरभि जैसी
सागर की गहराई-सी
हिमालय की ऊँचाई-सी।
बगीचे की हरी दूब-सी
नभ में छाये बदल जैसी
फूलों की क्यारी सी
मृग में छिपी कस्तूरी सी
पूनम में चांदनी सी
रंगों में इन्द्रधनुष जैसी
मेरे में हिम शिला सी
चुभ जाती है काँटों सी
मौत मे जीने की चाहत सी
तेरी यादें साथ रहती है परछाई जैसी

Leave a Reply