प्रेम

निश्चल प्रेम कैसा होता है
रातोमें जुगनू सा जगमगाता
चाँद को चांदनी से चमकता
जो हमें दिखाई नहीं देता
शायद हवा की तरह होता है
… दिखाई देती है नसीहतें
नुकीले पत्थरों-सी बातें
दुनिया-भर के समझोते
शायद ज्वाला की तरह होता है
पता नहीं कौन-सा बिश्वास
या फिर ऐसा कोई एहेसास
पूरी हो रही हो जैसे कोई आश
शायद छाया की तरह होता है
फूलोंवाले बग़ीचे में तितली सा
रंग-बिरंगी दुनिया मैं इन्द्रधनुस सा
बच्चों के लिये माँ का आंचल सा
शायद कल्पना का आधार होता है
चाहत को प्रेम बताना
साथ रहने को प्रेम माना
देह वासना को प्यार जाना
शायद जरुरत की परछाई होता है

Leave a Reply