हवाएँ चैत की

बह चुकी बहकी हवाएँ चैत की
कट गईं पूलें हमारे खेत की

कोठरी में लौ बढ़ा कर दीप की

गिन रहा होगा महाजन सेंत की।

Leave a Reply